हिमाचल प्रदेश के बारे में जरूरी जानकारी

0
68

Knowledge about HIMACHAL PRADESH

हिमाचल प्रदेश भारत का बहुत ही सुंदर राज्यों में से एक हैं! हिमाचल में बडी बडी पहाड़ी चोटिया है जो बर्फ की सफ़ेद चादर ओढ़े हुये है जो देखने मे एक अदभुत दृश्य लगता है हिमाचल की राजधानी शिमला को बनाया गया है परंतु सर्दी के मौसम में यह धर्मशाला को बनाया जाता है हिमाचल प्रदेश में जिलों की संख्या १२ है।

इस लेख के बारे में जरुर पढ़ें: महाराष्ट्र के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी

हिमाचल प्रदेश कैसे बना

  • १५ अप्रैल को हिमाचल प्रदेश दिवस के रूप मे मनाया जाता है।
  • १५ अप्रैल १९४८ को chief commissionary state बनाया गया।इसमे २६ shimla hill state और ४ punjab hill state को मिलाकर कुल ३० princely state बनाई गई थी उस वक़्त इसमे ४ जिले थे चम्बा , महासू ,मंडी,और सिरमौर थी। first chief commissioner NC Mehta को बनाया गया और first vice chief commissionery EP Moon को बनाया गया। और chief commidsionery को ९ members में divide किया गया। जिसमें से ३ members princely state के थे और ६ members Public representatives के।
  • Sept १९५३ में हिमाचल प्रदेश को part c state बना दिया गया। और जो chief commissioner थे वो बन गए Lieutenant Governer और पहले Lieutenant Governer थे Major Genral Himmat Singh. पहले लोक सभा चुनाव १ मार्च १९५१ में हुए। और विधान सभा चुनाव २४ मार्च १९५२ में हुए थे। और १९५२ के ही अंदर ही हिमाचल में चुनाव हुए थे।
  • और हिमाचल के अंदर ३६ LEGISLATIVE ASSEMBLY की सीट के लिए चुनाव हुए जिसमे से २४ सीट में कांग्रेस ने अपनी जीत हासिल की थी और २४ मार्च १९५२ के अंदर “DR. YS Parmar” हिमाचल प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री बने।
  • १ जुलाई १९५४ में बिलासपुर को हिमाचल के अंदर मिलाया गया। और बिलासपुर को मिलाकर इसमें कुल ५ जिले हो गए। १ नवंबर १९५६ में हिमाचल को Union Territory बनाया गया और इसके LT. governer Sh. Bajrang Bahadur Singh बने। १ मई १९६० को महासू की चिन्नी तहसील को काटकर किन्नौर जिला बनाया गया और हिमाचल में ६ जिले बन गए १९६३ में एक बार फिर हिमाचल को Territorial Council से हटाकर फिर से LEGISLATIVE ASSEMBLY बनाया गया एक बार फिर से १ जुलाई १९६३ में DR. YS Parmar को हिमाचल के दूसरा मुख्यमंत्री बनाया गया।
  • LEGISLATIVE Assembly की पहली मीटिंग 1 जुलाई 1963 में हुई और हिमाचल में LEGISLATIVE Assembly को हमेशा के लिए बनाया गया नो आज भी कायम है।
  • 1 नवंबर 1966 को पंजाब के 4 जिलो को अलग करके हिमाचल में मिलाया जाता है जो है कांगड़ा, कुल्लू, लाहौल स्पीति और शिमला। और अब 4 जिलो को पंजाब से काटकर हिमाचल में मिलाया गया इस तरह हिमाचल में 6 जिले थे जिनमें 4 और मिलाके हिमाचल के कुल 10 जिले बन गए और इस तरह विधान सभा की सीटों में बढ़ोतरी कर 63 कर दिया गया और 1963 में एक बार फिर “DR. YS Parmar” हिमाचल के तीसरे मुख्यमंत्री बने।
  • ३१जुलाई १९७० में संसद में Grant of Statehood बिल रखा गया जिसे संसद ने १८ दिसम्बर १९७० को पास् कर दिया। २५ जनवरी १९७१ को प्रधानमंत्री Mrs. Indira Gandhi ने हिमाचल को 18th State 9f India घोषित कर दिया और हिमाचल के पहले गवर्नर “S.Chakravarty” बने थे ।
  • १ सितबर १९७२ में कांगड़ा जिले को काटकर हमीरपुर और उना दो जिले बनाये गए और शिमला और महासू का पुनर्निर्माण कर शिमला और सोलन बना दिया गया और अब हिमाचल में कुल १२ जिले बन गए जो कि बिलासपुर, चम्बा, हमीरपुर, कांगड़ा, किन्नौर, कुल्लू, लाहौल स्पीति, मंडी, शिमला, सिरमौर, सोलन और ऊना
  • Legislative Assembly के members की संख्या ६८ है।
  • Area = ५५,६७३ sq km
  • Capital = Shimla
SHARE
Previous articleभारत के बारे में कुछ जरूरी जानकारियाँ
Next articleदिल्ली के बारे में जरूरी जानकारी पढ़ें
Moniveer: Moniveer PuraBharat.com में आपका तह दिल से स्वागत करता हु और PuraBharat.com पढ़ने वालो को दिल से धन्यावाद करता हूँ मेरा यह ब्लॉग बनाने का मकसद सिर्फ आप लोगों तक कुछ जरुरी जानकारी देना है! मेहनत हमेशा खामोशी से करो और जीत ऐसी करो कि तुम्हारे फैसले दुनिया को बदल दे न कि दुनिया के फैसले तुम्हें बदल सके। जब तक दिल मे हार का डर रखोगे जीतना मुशिकल हो जाएगा हार हो या जीत मैदान कभी मत छोड़ो क्योंकि हार भी बहुत जरूरी है जब तक हारोगे नही जीत का आनंद नहीं उठा सकोगे जीत भी उसी की होती है जो हारना जानता है क्योंकि जीत का असली आनंद हारा हुआ व्यक्ति ही उठा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here