भारत के बारे में कुछ जरूरी जानकारियाँ

1
148

India के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारियाँ 

भारत दक्षिण एशिया में स्थित भारतीय उपमहाद्वीप का सबसे बड़ा देश है. !जनसख्याँ  के दृष्टिकोण में यह दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा देश है ! भारत दुनिया का एकमात्र एक ऐसा देश है जिसमे बहुत सी भाषाएँ बोली जाती है ! और भारत की मातृभाषा हिंदी है जो की देवनागरी लिपि में लिखी गयी है ! भारत देश में बहुत से समुदाय के लोग एक साथ रहते है और भारत धार्मिक प्रथा को बहुत मानाने वाला देश है ! भारत के पश्चिम में पाकिस्तान, उतर -पूर्व में चीन, नेपाल और भूटान, पूर्व में बांग्लादेश और मंम्यार स्थित है! दक्षिण में श्रीलंका और दक्षिण-पूर्व में इंडोनेशिया से भारत सामुदायिक सीमा लगती है! भारत के उतर में हिमालय पर्वत, दक्षिण में हिन्द महासागर,पूर्व में बंगाल की खाड़ी तथा पश्चिम में अरब सागर स्थित है!

इस लेख को अवश्य पढ़ें: महाराष्ट्र (Maharashtra)

भारत का निर्माण

२७करोड़ साल पहले जब पृथ्वी को अस्तित्व में आये ४अरब२०करोड़ साल हो चुके थे! लेकिन पृथ्वी पर जमींन का सिर्फ एक ही टुकड़ा था!और इस जमींन के टुकड़े को विद्वानों ने पेंजिया (Pengea) का नाम दिया था और पेंजिया का क्षेत्रफल आज के सभी देशो के क्षेत्रफल के बराबर था! लेकिन समय के साथ पेंजिया दो टुकड़ो में बंट गया विद्वानों के अनुसार पेंजिया के निचे ज्वालामुखी क्रियाएं जिस कारण ये दो टुकड़ो में बँट गया ! पेंजिया का एक भाग उतर की ओर चला गया और दूसरा भाग दक्षिण की ओर ! उतर के भाग को Laurasia का नाम दिया और  दक्षिण के भाग को Gondwana का नाम दिया गया! १८ करोड़ साल पहले दक्षिण वाला भाग Gondwana टूटना शुरू हुआ ! Gondwana Land से टूटकर दक्षिण अमेरिका, अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और अंटार्टिका महाद्वीप बने! लगभग ९ करोड़ साल पहले अफ्रीका महाद्वीप से एक ज़मींन का टुकड़ा अलग हुआ और उस जमीन के टुकड़े में आज भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका, नेपाल, भुट्टन, अफग़ानिस्तान समाए हुए थे! और वो टुटा हुआ भाग बहुत तेजी से North-East की ओर बढ़ने लगा  और आज से ४करोड़ साल पहले एशिया यानि यूरेशिया प्लेट से जा टकराया और Gondwana से आये उस जमीन के टुकड़े को Indian-Plate कहा गया Indian-Plate का यूरेशिया प्लेट के टकराने से पर्वत श्रृंखला का निर्माण हुआ जिसका नाम आज हिमालय श्रृंखला है! और इस तरह निर्माण हुआ हमारे भारत का अथवा भारत कभी अफ्रीका महाद्वीप का हिस्सा हुआ करता था!

India के राज्य एवं भाषाएँ

भारत के कुल २८ राज्य है ! भारत की राजधानी दिल्ली है भारत में १९५०० से अधिक भाषाएँ  बोली जाती है भारत की मातृभाषा हिंदी है इतनी ज्यादा भाषाएँ बोलने बाला इकलौता देश है भारत!

भाषाएँ

India में इतनी ज्यादा भाषाएँ होने के बाबजूद २२ प्रमुख भाषाएँ है!

  • हिंदी ( Hindi)
  • बंगाली (Bengali)
  • तेलगू ( Telagu)
  • मराठी (Marathi)
  • तमिल (Tamil)
  • उर्दू ( Urdu)
  • गुजरती (Gujrati)
  • कन्नड़ ( Kannada)
  • मलयालम (Malayalam)
  • ओड़िआ  (Odia)
  • पंजाबी (Punjabi)
  • असामी (Assamese)
  • मैथिलि (Maithili)
  • संताली (Santali)
  • कश्मीरी (Kashmiri)
  • नेपाली (Nepali)
  • सिंधी (Sindhi)
  • कोंकणी (Konkani)
  • डोगरी (Dogri)
  • मणिपुरी (Manipuri)
  • बोडो (Bodo)
  • संस्कृत (Sanskrit)

India के अलग-अलग

  • उत्तर प्रदेश  Uttar Pradesh
  • केरल  Kerala
  • महाराष्ट्र  Maharashtra
  • तमिलनाडु  Tamilnadu
  • राजस्थान  Rajasthan
  • बिहार  Bihar
  • कर्नाटक  Karnataka
  • गुजरात  Gujarat
  • पंजाब  Punjab
  • आंध्र प्रदेश  Andhra Pradesh
  • गोवा  Goa
  • हरियाणा  Harayana
  • मध्य प्रदेश madhya Pradesh
  • वेस्ट बंगाल West Bangal
  • तेलंगाना telangana
  • ओडिशा Odisha
  • असम Assam
  • छत्तीसगढ़ Chhatisgarh
  • झारखण्ड Jharkhand
  • मणिपुर Manipur
  • नागालैंड Nagaland
  • उत्तराखंड Uttrakhand
  • हिमाचल प्रदेश Himachal Pradesh
  • सिक्किम Sikkim
  • त्रिपुरा Tripura
  • अरुणाचल प्रदेश  Arunachal Pradesh
  • मेघालय  Meghalaya
  • मिजोरम Mizoram
SHARE
Previous articleयूरोपीय देशों में कैसे खोजा जा रहा है COVID-19 का इलाज
Next articleहिमाचल प्रदेश के बारे में जरूरी जानकारी
Moniveer: Moniveer PuraBharat.com में आपका तह दिल से स्वागत करता हु और PuraBharat.com पढ़ने वालो को दिल से धन्यावाद करता हूँ मेरा यह ब्लॉग बनाने का मकसद सिर्फ आप लोगों तक कुछ जरुरी जानकारी देना है! मेहनत हमेशा खामोशी से करो और जीत ऐसी करो कि तुम्हारे फैसले दुनिया को बदल दे न कि दुनिया के फैसले तुम्हें बदल सके। जब तक दिल मे हार का डर रखोगे जीतना मुशिकल हो जाएगा हार हो या जीत मैदान कभी मत छोड़ो क्योंकि हार भी बहुत जरूरी है जब तक हारोगे नही जीत का आनंद नहीं उठा सकोगे जीत भी उसी की होती है जो हारना जानता है क्योंकि जीत का असली आनंद हारा हुआ व्यक्ति ही उठा सकता है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here